विश्व पर्यावरण दिवस’ धरती को बचाने में करें सहयोग!

0

आज विश्व पर्यावरण दिवस है, ऐसे मौके पर हम सभी को कोई ऐसा प्रण लेना चाहिए जो आने वाली पीढ़ियों को साफ सुथरी हवा देने में मददगार हो. विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है.

देखा जाए तो हर साल प्रदूषण के मामले में बढ़ोतरी हो रही है. प्रदूषण लगातार हमारी सांसें कम कर रहा है और नए पैदा होने वाले कई बच्चों पर इसका असर भी दिख रहा है.

कब हुई शुरुआत?
विश्व पर्यावरण दिवस की घोषणा संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और सामाजिक जागृति लाने हेतु वर्ष 1972 में की गई थी। इसे 5 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद शुरू किया गया था। 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया था.

कैसे करें इसमें योगदान!
● अपने आसपास के वातावरण को स्वच्छ रखें.
● सड़क पर कूड़ा ना फेंके और न ही कूड़े में आग लगाएं.
● कूड़ा रीसाइकल के लिए भेजें.
● प्लास्टिक, पेपर, ई-कचरे के लिए बने अलग-अलग कूड़ेदान में कूड़ा डाले ताकि वह आसानी से रीसाइकल के लिए जा सके.
● निजी वाहन की बजाय कार-पूलिंग, गाडियों, बस या ट्रेन का उपयोग करें.
● कम दूरी के लिए साइकिल चलाना पर्यावरण और सेहत के लिहाज से बेहतर है.
● पानी बचाने के लिए घर में लो-फ्लशिंग सिस्टम लगवाएं, जिससे शौचालय में पानी कम खर्च हो.
● शॉवर से नहाने की बजाय बाल्टी से नहाएं.
● ब्रश करते समय पानी का नल बंद रखो. हाथ धोने में भी पानी धीरे चलाएं.
● गमलों में लगे पौधों को बॉल्टी-मग्गे से पानी दें.
● नल में कोई भी लीकेज हो तो उसे प्लंबर से तुरंत ठीक करवाएं.
● नदी, तालाब जैसे जल स्त्रोतों के पास कूड़ा ना डालें.
● घर की छत पर या बाहर आंगन में टब रखकर बारिश का पानी जमा करें, इसे फिल्टर करके फिर से इस्तेमाल कर सकते हैं.

 

महेंद्र पाल (संपादक)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + 6 =