विश्व पर्यावरण दिवस: प्राकृतिक संतुलन बनाये रखने हेतु पेड़ पौधों का संरक्षण-संवर्धन जरूरी: प्रधानाचार्य

0
Online Hindi news paper khabren apne nagar ki
Online Hindi Newspaper: खबरें अपने नगर की

 

विश्व पर्यावरण दिवस: प्राकृतिक संतुलन बनाये रखने हेतु पेड़ पौधों का संरक्षण-संवर्धन जरूरी: प्रधानाचार्य
सामूहिक पहल से संभव होगा पर्यावरण संरक्षण

ललितपुर
कस्बा मड़ावरा के सरस्वती मंदिर इण्टर कॉलेज में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर्यावरण संरक्षण-संवर्धन संगोष्ठी का आयोजन सरस्वती मंदिर इण्टर कॉलेज के प्रधानाचार्य रामसजीवन प्रजापति की अध्यक्षता में हुआ।

संगोष्ठी में सरस्वती मंदिर इण्टर कॉलेज के
प्रधानाचार्य रामसजीवन प्रजापति ने कहा कि प्राकृतिक संतुलन बनाये रखने हेतु पेड़-पौधों का संरक्षण-संवर्धन जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस कार्य की सफलता सामूहिक प्रयासों पर ही सम्भव है। उन्होंने कहा कि पेड़-पौधों को लगाने के साथ ही उनकी निरंतर सेवा भी जरूरी है।

पेड़ पौधे हैं तो मानव जीवन है। पेड़ पौधों के विना मानव जीवन संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि आज के दिन यदि प्रत्येक व्यक्ति संकल्प ले कि हमें पौध रोपण के साथ ही उनकी सेवा करनी है तथा उन्हें बचाने के लिए भी काम करना है।

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विद्यालय परिसर में लगे छोटे, बड़े एवं विशालकाय (पुराने) पेड़-पौधों को पानी देकर उनके संरक्षण संवर्धन हेतु कार्य किया गया।

संगोष्ठी में सामाजिक कार्यकर्ता मानसिंह ने कहा कि 5 जून 1973 को पहली बार विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया, जिसमें हुए संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में पर्यावरण संरक्षण के मुद्दों पर विचार किया गया।

1974 के बाद से विश्व पर्यावरण दिवस का सम्मेलन अलग-अलग देशों में आयोजित किया जाने लगा। भारत में पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 19 नवंबर 1986 में लागू किया गया।

इस दौरान वरिष्ठ लिपिक ख़िलावन सिंह, लिपिक चुन्नीलाल, मानसिंह, राहुल कुमार झा, प्रताप सिंह, पवन सिंह, जाहर सिंह, धरम वीर, ऊदल सिंह, हरीराम आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- मानसिंह।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

27 + = 31