क्या है नोबेल पुरस्कार और किसे मिलता है यह

0

नोबेल पुरस्कार 2018 की घोषणा हो गई है. इस साल डेनिस मुकवेगे और आईएस के आतंक का शिकार हुई यजीदी रेप पीड़िता नादिया मुराद को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए चुना गया.

क्या है नोबेल पुरस्कार

यह पुरस्कार शांति, साहित्य, फिजिक्स, मेडिसिन, इकोनॉमिक्स के क्षेत्र में सबसे बड़ा पुरस्कार माना जाता है. द रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस फिजिक्स और इकोनॉमिक्स के लिए, कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट औषधी के क्षेत्र में और नॉर्वेजियन नोबेल समिति शांति के क्षेत्र में अवार्ड देती है. जो भी व्यक्ति अवार्ड जीतता है उसे एक मेडल, एक डिप्लोमा और धनराशी मिलती है.

कैसे शुरू हुआ नोबेल पुरस्कार

यह पुरस्कार नोबेल फाउंडेशन स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड बर्नाड की याद में देता है. अल्फ्रेड बर्नाड की 1896 में मृत्यु हो गई. मृ्त्यु से पहले वह अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा ट्रस्ट को दे गए. उन्होंने कहा कि इन पैसों के ब्याज से मानव जाति के लिए काम करने वाले लोगों को हर साल सम्मानित किया जाए. स्वीडिश बैंक में जमा इस राशि के ब्याज से हर साल अवार्ड वीनर्स को धनराशि दी जाती है.

नोबेल फाउंडेशन

इसकी स्थापना 29 जून 1900 में में हुई, 1901 से यह नोबेल पुरुस्कार दिया जाने लगा.

नोबेल पुरस्कार से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

1-शांति के लिए दिए जाने वाला पुरस्कार ओस्लो में जबकि बाकी सभी अवार्ड स्टॉकहोम में दिए जाते हैं.

2-किसी एक क्षेत्र में एक साल में अधिकतम 3 लोगों को अवार्ड दिया जा सकता है.

3-अगर एक ही पुरस्कार 2 व्यक्तियों को सांझा रूप से मिला है तो धनराशि दोनों में बांटी जाएगी.

किन भारतीयों को मिला है अब तक नोबेल पुरुस्कार

रविंद्रनाथ टैगोर, हरगोविंद खुराना, सीवी रमण, वीएएस नायपॉल, वेंकट रामाकृष्णन, मदर टेरेसा, सुब्रमष्यम चंद्रशेखर, कैलाथ सत्यार्थी, आरके पचौरी और अमर्त्य सेन.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

30 − 26 =