प्रशासनिक अमले के औचक निरीक्षण से घबराएे मिश्रित के मिलावट खोर व्यापारी

0
trader, nervous by the surprise inspection of administrative staff
प्रशासनिक अमले के औचक निरीक्षण से घबराएे मिश्रित के मिलावट खोर व्यापारी

प्रशासनिक अमले के औचक निरीक्षण से घबराएे मिश्रित के मिलावट खोर व्यापारी ।
चार दिनों से बन्द पड़ा है कस्बा मिश्रित का पूरा बाजार लोगों को नहीं मिल रहीं आवस्यक बस्तुऐं

मिश्रित सीतापुर /प्रदेश शासन की प्राथमिकताओं में शामिल भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन के क्रम में बांट मांप ,खाद सुरक्षा एवं औषधि प्रसाधन , पावर कारपोरेशन , स्वास्थ विभाग ,इनकम टैक्स आदि की संयुक्त टीमों ने बीते गुरुवार को एक साथ मिल कर धार्मिक कस्बा मिश्रित और नैमिषारण्य में औचक छापेमारी की इस छापेमारी के दौरान लोग अपनी-अपनी दुकानों का सटर गिराकर चंपत हो गए परंतु कुछ चंद लोग ही प्रशासनिक अधिकारियों के जांच दायरे में आए कई जनरल मर्चेंट की दुकानों पर कांटा बांट बिना मुहर के पाये गए वहीं मेडिकल स्टोरों पर फार्मासिस्ट भी नदारत मिले और एक्सपायरी दवाओं का स्टाक मौजूद मिला इस तरह से प्रशासन की कड़ी कार्यवाही को देखकर तिलमिलाये मिलावट खोर और घटतौलों में भारी हड़कंप मचा रहा जबकि अधिकतर व्यापारी अपनी दुकानें बंद करके निकल गए और छोटी – मोटी दुकानों पर ही कार्यवाही हो सकी फिर भी कस्बा मिश्रित में बीते गुरुवार से लगभग चार दिन बीत रहे हैं और पूरी मार्केट बन्द नजर आ रही है वहीं भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन का दावा करने वाली प्रदेश सरकार के ही कुछ स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता जन शोषण करके सरकारी राजस्व को चूना लगाने वाले ब्यापारियों को खुला सहयोग प्रदान करके भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का कार्य कर रहे है यह कोई नई बात नही है इस धार्मिक क्षेत्र में जब भी किसी प्रशासनिक अधिकारी व्दारा भ्रष्टाचार पर रोंक लगाने हेतु कोई भी कदम उठाया जाता है तो यहॉ के भाजपाई दीवार बनकर प्रशासन के आगे खड़े हो जाते है जिससे प्रशासनिक कार्यवाही अधर में लटकर दम तोड़ देती है स्थानीय लोगों की मानें तो अगर यह व्यापारी / दुकानदार दूध के धुले है कालाबाजारी और सरकारी टैक्स की चोरी नही कर रहे है तो प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा जांच के डर से अपनी दुकानों को लगातार क्यों बंद कर रहे हैं तहसील प्रशासन व नगर पालिका प्रशासन भी इन व्यापारियों से दुकानें बंद करने का कारण पूंछने में अक्षम दिखाई दे रहा है यहॉ की क्षेत्रीय जनता का मानना है कि कस्बे के दुकानदार बीते चार दिनों से अपनी दुकानें बंद कर जांच अधिकारियों से कतरा रहे हैं इसमें जिला प्रशासन एवं तहसील प्रशासन व नगर पालिका प्रशासन की जिम्मेदारी बनती है कि इन दुकानदारों के विरुध्द दुकान न खोलने हेतु नोटिस जारी कर जवाब तलब करे जिससे यहां की क्षेत्रीय जनता को रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुऐं उपलब्ध हो सके ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

56 − = 48