गांव से कोसों दूर पहाड़ों पर बना दिए गए शौचालय

0

शौचालय बनवाने के नाम पर अधिकारियों ने किया लाखों का घोटाला

एक नहीं दो नहीं तीन नहीं पचासों शौचालय ऐसे बना दिए गए जो उपयोग के लायक ही नहीं है

मामला जनपद पंचायत छतरपुर के अंतर्गत ग्राम पंचायत परापट्टी के ग्राम आमखेरा में आसानी से देखा जा सकता है जहां पर शौचालय का मजाक खुलेआम उड़ाया जा रहा है जिले में स्वच्छ भारत अभियान की आड़ में करोड़ों का भ्रष्टाचार सामने आया है स्वच्छ भारत अभियान के तहत जो शौचालय बनवाए गए हैं उन शौचालयों का निर्माण घटिया तरीके से किया गया है इसे प्रशासनिक अमले की लापरवाही कहें या फिर शासकीय पैसों का दुरुपयोग जो ग्रामीण गांव में मौजूद नहीं है उसके नाम से शौचालय बनकर राशि भी निकल आई
शौचालय निर्माण में भ्रष्टाचार शौचालय के नाम पर की जा रही कागज़ी खानापूर्ति प्रधानमंत्री के खुले में शौच मुक्त भारत का सपना अगर कहीं कागजों में साकार होता देखना है तो वह छतरपुर जनपद के कई ग्राम पंचायतों में बड़े ही आसानी से देखा जा सकता है जहां ग्राम पंचायतों को कागज पर खुले में शौच मुक्त कर अधिकारी अपनी वाहवाही बटोरने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं स्वच्छ भारत अभियान को पलीता लगा रहे अधिकारी कागजों में सिमट शौचालय का निर्माण भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने में लगे हो लेकिन छतरपुर के आला अधिकारी हैं कि उनके अभियान को पलीता लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं आलम यह है कि अधिकारियों की आलसी काम का खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है

छतरपुर से सुरेंद्र पटेरिया की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 + 1 =