निरस्त किया वैध कैंटीन का ठेका – सीतापुर उत्तर प्रदेश

0
Online Hindi news paper khabren apne nagar ki
Online Hindi Newspaper: खबरें अपने नगर की

सीतापुर

अपने कारनामो की पोल खुलते देख सीतापुर परिवहन एआरएम विमल राजन ने निरस्त किया वैध कैंटीन का ठेका

दिनॉक 20.11.2018 को डिजिटल बस स्टेशन सिधौली मे प्रेसवार्ता हमराह एक्स कैडेट एन सी सी सेवा संस्थान समृद्धि फाउण्डेशन व एनजीओ टाइम्स डॉट इन द्घारा पिछले 19 दिनों से सिधौली बस स्टेशन के सुधार के लिए परिवहन विभाग द्घारा किए जा रही कागजी कार्यवाही के कारण घाटे मे पर चल रही व अवैध कैटीन का खुलासा प्रेसवार्ता करके एनजीओ टाइम्स डॉट इन वरिष्ठ पत्रकार अनुपम पान्डे के द्घारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन का खुलासा किया गया

कैटीन का ठेका तत्काल प्रभाव से निरस्त कर एक पक्षीय कार्यवाही एआरएम विमल राजन द्घारा व अनुबन्ध के उल्लंघन की प्रति दिखाई गई उसमे पूर्व मे की गई अपने वफादार व सहयोगी कर्मचारीयो द्घारा शनिवार को दिनाकित नोटिस जो रविवार को जबरन चस्पा की गई व सोमवार को उपजिलाधिकारी सिधौली को जाकर समस्त बातो से अनुपम पाण्डेय द्घारा अवगत कराया गया जिसमे उन्होने एआरएम को दूरभाष पर समय देने की बात समय देने की बात कही व डिजिटल बस स्टेशन की सुविधाएं मुहैया कराने व संस्थाओं के द्घारा की जा रही पहल की सराहना की जिसमे केंन्द्र प्रभारी सुधा श्नीवास्तव व सीतापुर डिपो से आई वरिष्ट केन्द्र प्रभारी भी मौजूद थी

प्रेसवार्ता के दौरान हमराह एक्स कैडेट एन सी सी सेवा संस्थान के सचिव ज्ञानेश पाल व वरिष्ट पत्रकार द्घारा किए गये खुलासे को लेकर उग्र रूप धारण कर झूठे मुकदमो मे फंसाने देख लेने की धमकी विमल राजन द्घारा दी गई मौके पर आकर एआरएम विमल राजन ने प्रेसवार्ता को समाप्त करने को कहा अनुपम पाण्डेय को बंघक बनाकर धमकी दी और कहा कि मै बस स्टेशन यहॉ का सब कुछ हू कैपस मे कोई भी नही आ सकता है कैटीन के मैनेजर व कर्मचारियों को भी तत्काल जेल भिजवाने की धमकी दी जिससे उन लोगो मे अफरा त परी बनी हुई है वे खान पान का सामान छोडकर कैंटीन बंदकर चले गए

प्रेसवार्ता मे समृद्घि फाउण्डेशन की चेयरपर्सन अपर्णा मिश्ना ने डिजिटल आदर्श बस स्टेशन को शहीद कैप्टन मनोज पाण्डेय के नाम से व महमूदाबाद चौराहे को डॉ० एपीजे अब्दुल कलाम चौराहा तथा विसवां चौराहे को पं० दीनदयाल उपाध्याय चौराहे के नाम करण का प्रस्ताव सक्षम विभागो को देने की घोषणा की

ज्ञानेश पाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + 4 =