परिवहन अधिकारी को सीने में हुआ दर्द, अस्पताल जाते समय रास्ते में हुई मौत

0
online hindi news portal
online hindi news portal

आरटीओ कार्यालय छतरपुर में पदस्थ यतेंद्र सिंह सेंगर का शनिवार दोपहर अचानक हार्ट अटैक से निधन हो गया। उनकी हालत अचानक घर में बिगड़ी थी। इस पर उन्हें परिवार के लोग तुरंत जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जिला अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद उन्हें मेडिकल कॉलेज ग्वालियर के लिए रेफर कर दिया गया लेकिन रास्ते में उनकी मौत हो गई।

जानकारी के अनुसार छतरपुर में आरटीओ के पद पर पदस्थ यतेंद्र सिंह सेंगर (55) मुरैना जिले के रहने वाले थे। शनिवार की सुबह नौ बजे नींद से जागे तो उन्हें अचानक घबराहट होने लगी। तब उन्होंने परिजनों को बताया। सुबह करीब 11 बजे उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया । जहां डॉ. महेंद्र गुप्ता ने उनका चेकअप किया। हालत गंभीर होने पर उन्हें दोपहर करीब सवा 12 बजे ग्वालियर रेफर किया गया। मेडिकल कॉलेज ले जाते समय उनकी रास्ते में मौत हो गई। इस पर उन्हें वापस जिला अस्पताल लाया गया। घटना की खबर लगते ही कलेक्टर रमेश भंडारी सहित आरटीओ कार्यालय के कर्मचारी और अन्य विभागों के अधिकारी भी पहुंच गए।

एक दिन पहले गए थे ऑफिस

आरटीओ यतेंद्र सिंह सेंगर ज्यादातर अपने कार्यालय में रहते थे। अपने निधन के एक दिन पहले भी वे शुक्रवार को अपने ऑफिस गए थे। शाम को जल्दी घर पहुंचे और कुछ शादियों में  शामिल होने के लिए निकले। रात में सो गए लेकिन सुबह वे देर से उठे तो बेचैनी का अनुभव किया। घर में ही परिजन उन्हें प्राथमिक इलाज देते रहे। बाद में उन्हें अस्पताल लाया गया। इधर उनकी हालत बिगड़ती चली गई और उनका निधन हो गया।

हर दिन करते थे मार्निंग वॉक
आरटीओ यतेंद्र सिंह सेंगर अपनी सेहत को लेकर हमेशा सचेत रहते थे। वे शहर के नौगांव रोड स्थित पेप्टेक टाउन में रहते थे। उनके पड़ोसी अंकुर यादव बताते हैं कि आरटीओ सेंगर हर सुबह नियमित रूप से मार्निंग वॉक पर निकलते थे। टाउन के लॉन में योग आदि भी करते थे। वे इस उम्र में भी फिट थे, लेकिन अचानक से उन्हें हार्ट अटैक आना अपने-आप में आश्चर्य की बात है।

पत्रकार/छतरपुर
विनोद मिश्रा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

40 + = 44