आजादी को सम्हालकर रखना हम सभी का है फर्ज- जिलाधिकारी

0
Online Hindi news paper khabren apne nagar ki
Online Hindi Newspaper: खबरें अपने नगर की

आजादी को सम्हालकर रखना हम सभी का है फर्ज- जिलाधिकारी

ललितपुर. आजादी…… सुनने में जितना छोटा शब्द लगता है इसकी महिमा उससे कई गुना अधिक बड़ी है। आजादी का मतलब है स्वतंत्रता कहीं भी कोई प्रतिबंध नहीं। भारत में रहने वाला हर जीव अपनी दुनिया में आजाद है। मगर यह आजादी हमें कई सालों की गुलामी के बाद कई शहादतों के उपरांत हासिल हुई और इस आजादी को संभाल कर रखना हम सब नागरिकों का परम कर्तव्य है, जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह के उद्बोधन से पूरा कलेक्ट्रेट परिसर गूंज उठा। तो वहीं पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह ने भी हरिवंश राय बच्चन की एक कविता सुनाकर वहां उपस्थित आम जनमानस के साथ सभी पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों का मन मोह लिया।
पुलिस अधीक्षक ने हरिवंश राय बच्चन की कविता में पुलिस की कर्तव्यनिष्ठा को दर्शाया। पूरे जनपद में आजादी की 72वीं सालगिरह बड़ी ही शिद्दत हर्षोल्लास के साथ धूमधाम से मनाई गई।
आजादी की इस सालगिरह पर जनपद वासियों में एक नया जोश देखा गया। सुबह से ही बच्चों की कतारों ने सबका मन मोह लिया। जहां एक ओर अपने अपने स्कूल की ड्रेस में सजे हुए देश के रंग में रंगे हुए तिरंगे झंडे लेकर छोटे-छोटे बच्चे अपने स्कूलों की तरफ जा रह थे तो वहीं दूसरी तरफ जनपद के अलग-अलग कार्यालय में तैनात कर्मचारी भी स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने तिरंगे को सलामी देने अपने कार्यालयों की ओर प्रस्थान कर रहे थे।
कलेक्ट्रेट परिसर में जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह ने तिरंगा फहराकर वहां उपस्थित अधिकारी कर्मचारियों के साथ आम जनमानस को भी जनपद को तंबाकू रहित बनाने की शपथ दिलाई एवं एक गोष्ठी में पर्यावरण एवं जल संरक्षण की बात कही। वहीं दूसरी तरफ पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह सहित पुलिस अधिकारियों ने अपने अपने कार्यालयों पर तिरंगा फहराया एवं अपने कार्यालयों के साथ जनपद को तंबाकू रहित बनाने की कसम खाई। पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह ने आजादी की 7२वीं वर्षगांठ पर कहा कि यह आजादी हमें कई कुर्बानियों के बाद मिली है। हमारा प्रथम कर्तव्य है कि हम अपने तिरंगे की रक्षा करें तो वहीं पर उन्होंने हरिवंशराय बच्चन की एक कविता बिना पुलिस के रह कर देखो सुना कर पुलिस के कर्तव्यों का बोध कराया। इस कविता के माध्यम से उन्होंने आम जनमानस को यह संदेश दिया कि पुलिस को लोग बुरा भला कहते रहते हैं, मगर अगर 1 घंटे भी बिना पुलिस के रहना पड़े तो आप कैसा महसूस करेंगे। पुलिस की ड्यूटी को ना तो घंटों में बांधा जा सकता है और ना ही दिनों में पुलिस 24 घंटे अपनी ड्यूटी पर मुस्तैद रहती है तब जाकर आम आदमी चैन की नींद अपने घरों में सोता है।
आजादी की 7२वीं वर्षगांठ पर अपने उत्कृष्ट कार्यों के लिए कुछ पुलिस कर्मचारियों को भी सम्मानित किया गया, जिसमें स्वाट टीम के श्याम सुंदर यादव, उप निरीक्षक संत कुमार सहित डायल हंड्रेड 2588 पर तैनात पुलिस कर्मियों को उनके उत्कृष्ट कार्य आम जनमानस को बहुत ही कम समय में पुलिस सुविधा मुहैया कराने के उपलक्ष में सम्मानित किया गया। इसके अलावा तालबेहट क्षेत्र अधिकारी विनोद कुमार सिंह ने भी पुलिस विभाग में अपनी उत्कृष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक प्राप्त कर जनपद पुलिस का गौरव बढ़ाया।

रिपोर्ट दिनेश पाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 + 3 =