कई रिश्तेदार एवं परिवारी जन होने के बावजूद लावारिस बना बृद्ध।

0
Online Hindi news paper khabren apne nagar ki
Online Hindi Newspaper: खबरें अपने नगर की

कई रिश्तेदार एवं परिवारी जन होने के बावजूद लावारिस बना बृद्ध।

*उम्र दराज एवं बीमार होने पर भी नहीं कोई सेवा करने वाला।*
*हिस्से की सारी जमीन लेने के बाद छोड़ा लावारिस।*
*ग्रामीणों ने मरणासन्न स्थिति में पहुंचाया अस्पताल।*

छतरपुर म.प्र के सरबई के ग्राम पंचायत सरबई निवासी रामकिशुन लखेर उम्र 80 साल आज लावारिस स्थिति में रहने को मजबूर है सरबई व किशनपुर में कई रिश्तेदार व परिवार होते हुए भी इस उम्र में किसी लावारिस जानवर की जिंदगी जीने को मजबूर है इस शख्स की कोई रिश्तेदार जिम्मेदारी उठाने को तैयार नहीं है और ना ही किशनपुर में निवास रत उसके खुद के परिवार वाले। ग्रामीणों की मानें तो इस बृद्ध के पास जो भी जमीन थी वह गरोठा निवासी पुक्खन लखेर ने अपने नाम करवा ली है और जो वर्तमान में उसका प्लॉट है सूत्रों के अनुसार उसकी भी वसीयत तैयार कर उसे असहाय स्थिति में छोड़ अपना पल्ला झाड़ कर अलग हो चुका है अब इस उम्र में उसे आखिर कौन पालित करें।
आपको बताते चलें कि दिनांक 25 .10.18 को पड़ोसियों एवं ग्रामीणों की मदद से उसे कबाड़ बनी कोठरी से निकालकर सरबई पुलिस के सामने एंबुलेंस द्वारा चला स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया किंतु अस्पताल प्रशासन द्वारा भी उसे अपने यहां से जल्द टालने का दबाव बनाया जा रहा है जो पूरी तरह से संवेदना के खिलाफ है।
इस असहाय वृद्ध के लिए मदद में हाथ उठाने वाले व्यक्ति हैं राम राजा घोष घोष, विजय वर्मा ,रमाकांत मिश्रा,मनीष तिवारी चंदला ,इन लोगों ने मदद करते हुए इस वृद्ध को एंबुलेंस द्वारा अस्पताल पहुंचाया एवं खाने-पीने की व्यवस्था की व व इलाज के लिए अस्पताल को प्रेरित किया।
सभी लोगों से अपील है कि कृपया इस असहाय एवं उपेक्षित वृद्ध की मदद के लिए अपने हाथ बढ़ा कर उसे जीवनदान देने में सहयोग करें जो अभी भी चंदला स्वास्थ्य केंद्र में एडमिट है ।

रिपोर्टर/छतरपुर (म.प्र)
विनोद मिश्रा- 9584667429

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

16 − 11 =