गुजर ताल से नहीं हो पाया मत्स्य बीज वितरण

0
Online Hindi news paper khabren apne nagar ki
Online Hindi Newspaper: खबरें अपने नगर की

गुजर ताल से नहीं हो पाया मत्स्य बीज वितरण

जुलाई माह का पहला हफ्ता समाप्त होने को है लेकिन खेतासराय क्षेत्र के खुदौली स्थित प्रसिद्ध गूजरताल में मत्स्य बीजों का वितरण शुरु नहीं हो पाया है। मत्स्य पालक बीज न मिलने पर निराश लौट रहे है। विभागीय अधिकारी इसके पीछे कार्ययोजना की मंजूरी में विलम्ब और मानसूनी बारिश की बेरुखी वजह बता रहे है।
क्षेत्र के गुजरताल में 989 बीघा जल क्षेत्र एवं 10 बीघा मत्स्य उत्पादन क्षेत्र है। जल क्षेत्र  को मत्स्य पालन के लिए पट्टे पर दिया जाता है जबकि उत्पादन क्षेत्र में हैचरी व मत्स्य बीजों के संचय के लिए तालाब है। यहां की हैचरी विभाग ने घाटा दिखाकर 2005, 2006 में बंद कर दिया था। इसके बाद यहां के हैचरी तालाबों में सिर्फ मत्स्य बीजों को संचय कर मत्स्य पालकों को बेचा जाता है।
गुजरताल का क्षेत्रफल के लिहाज से पूरे प्रदेश में पहला स्थान होने के बाद भी  प्रशासनिक एवं विभागीय उपेक्षा का शिकार है। विभाग का यह ताल अब उजाड़ खंड बन चुका है। ताल क्षेत्र में लगे हजारों पेड़ औने-पौने दाम में नीलम कर दिये गये। मत्स्य उत्पादन के लिए बनी हैचरी में लगे उपकरण जंग खा चुके हैं। विभागीय उपेक्षा के चलते वर्तमान सीजन में अभी तक मत्स्य संचय, बिक्री के लिए कार्य योजना मंजूर होकर धन आवंटित नहीं हो सका है। मत्स्य संचय के लिए बने एक दर्जन तालाबों में अभी सिर्फ एक तालाब में सोलर नलकूप के जरिए पानी भरा जा सका है। अन्य तालाब अभी सूखे पड़े है। इस बारे में पूछने पर गुजरताल के प्रभारी सुदामा लाल शर्मा ने स्वीकार किया कि विभागीय अधिकारियों के स्थानांतरण एवं मानसूनी बरसात की कमी की वजह से मत्स्य तालाबों की तैयारी में थोड़ा विलम्ब जरुर हुआ है। श्री शर्मा ने कहा कि कार्ययोजना के मंजूरी की प्रक्रिया चल रही है तालाबों में मत्स्य बीजों के संचय के लिए भी आवश्यक तैयारी कर ली गई है। आशा हैं कि गुजरताल ताल से जुलाई के तीसरे सप्ताह से मत्स्य बीज मिलने शुरू हो जाएंगे। इस वर्ष भी यहां से 32 लाख मत्स्य बीजों के वितरण का लक्ष्य रखा गया है। मत्स्य पालकों को यह बीज 110 रुपये प्रति हजार की दर से दिए जाएंगे।

रिपोर्ट-शरतेन्दु विकास जौनपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

+ 80 = 88