मिश्रितप्रभारी निरीक्षक एे .के . सिंह के जाते ही धार्मिक कस्बे में शुरू हो गया मादक पदार्थों का व्यवसाय ।

0

रिपोर्ट  श्रवण कुमार मिश्र

प्रभारी निरीक्षक एे .के . सिंह के जाते ही धार्मिक कस्बे में शुरू हो गया मादक पदार्थों का व्यवसाय । मिश्रितप्रभारी निरीक्षक एे .के . सिंह के जाते ही धार्मिक कस्बे में शुरू हो गया मादक पदार्थों का व्यवसाय । मिश्रित- सीतापुर / सतयुग कालीन महर्षि दधीचि की पौराणिक तपोभूमि कस्बा मिश्रित में तैनात प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह का स्थानांतरण होते ही धार्मिक कस्बे सहित आस पड़ोस के गांवों में मादक पदार्थों का व्यवसाय खुलेआम संचालित हो गया है प्रभारी कोतवाल बने जंगबाज दरोगा की रंगबाजी के संरक्षण कस्बे से लेकर ग्रामीण इलाको तक कच्ची शराब की भट्ठियां खुले आम संचालित हो रही हैं जबकि इस धार्मिक क्षेत्र की तीन किलोमीटर की परिधि में मांस , मदिरा आदि के निर्माण एवं बिक्री पर मा . उच्चतम न्यायालय ने भी कड़ा प्रतिबंध लगाया है वहीं प्रदेश शासन के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने भी ऐसे लोगों पर अभियान चलाकर कड़ी कार्यवाही करने के सख्त आदेश दिए हैं फिर ऐसी कौन सी मजबूरी है कि इस धार्मिक क्षेत्र में मा. उच्चतम न्यायालय और प्रदेश शासन के कड़े आदेश कस्बा इंचार्ज के लिए प्रभावी नही हो रहे है शासन के बदले निजाम को लेकर भी कस्बा इंचार्ज कतई चिंतित नहीं है ! वही रफ्तार बेढंगी है जो पहले थी वह अब भी है ! की कहावत को चरितार्थ करते हुए इस धार्मिक नगर में कस्बा इंचार्ज के पद पर तैनात वरिष्ठ उपनिरीक्षक जंग बाज दरोगा गिरधारी सिंह की रंगबाजी के संरक्षण में मादक पदार्थों का कारोबार खुले आम संचालित हो रहा है प्रभारी निरीक्षक ऐ .के. सिंह का स्थानान्तरण होते ही कस्बा इंचार्ज की बल्ले बल्ले हो गयी है मादक पदार्थों का अवैध कारोबार करने वालों और दलालों से अपनी नजदीकियां बढ़ाकर कुछ ही दिनों में यहॉ की आम जनता में खासी चर्चा का विषय बन गए हैं वर्तमान समय में कोतवाल बिहीन कोतवाली मिश्रित सिर्फ दलालों का अड्डा बनकर रह गई है आम जनता के सभी कार्य दलालों के इशारों पर हो रहे हैं इस धार्मिक नगर के कंजड़ टोला की निर्मित कच्ची शराब दूर-दूर तक मसहूर है निवर्तमान कोतवाल एे .के सिंह ने यहां पर कई बार ताबड़तोड़ छापेमारी कर मादक पदार्थों के निर्माण और बिक्री पर कड़ा प्रतिबन्ध लगा दिया था परंतु उनके जाते ही प्रभारी कोतवाल बने कस्बा इंचार्ज गिरधारी सिंह ने यह अवैध ब्यवसाव खुले आम संचालित करा दिया है कोतवाली से चंद कदम की दूरी पर स्थित गांव सराय बीबी , शिवपुरी ,बौधनी, बहुती , बिराहिमपुर , बिजनापुर , ज्ञानसागर , दौलतपुर आदि दर्जनों गांवों में अवैध कच्ची शराब की भट्ठियॉ खुले आम संचालित हो रही है सायं ढलते ही कस्बे से लेकर गॉवो तक नसेड़ियों का हुजूम सुरू हो जाता है और कच्ची शराब के नशे में मदमस्त होकर नशेड़ी देर रात तक उत्पात मचाते रहते हैं कच्ची के नसे में धुत शराबी घर से बाहर निकलने वाली महिलाओं और किशोरियों पर छीटा कसी करने से भी नहीं चूकते हैं इस लिए यहां के निवासियों ने जिला प्रशासन व प्रदेश शासन का ध्यान इस ओर आकर्षित कराते हुए कोतवाली मिश्रित में शीघ्र नया कोतवाल तैनात किये जाने की मांग की है ताकि इस धार्मिक क्षेत्र में हो रहे मादक पदार्थों के अवैध व्यवसाय पर कड़ा प्रतिबंध लगाया जा सके ।- सीतापुर / सतयुग कालीन महर्षि दधीचि की पौराणिक तपोभूमि कस्बा मिश्रित में तैनात प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह का स्थानांतरण होते ही धार्मिक कस्बे सहित आस पड़ोस के गांवों में मादक पदार्थों का व्यवसाय खुलेआम संचालित हो गया है प्रभारी कोतवाल बने जंगबाज दरोगा की रंगबाजी के संरक्षण कस्बे से लेकर ग्रामीण इलाको तक कच्ची शराब की भट्ठियां खुले आम संचालित हो रही हैं जबकि इस धार्मिक क्षेत्र की तीन किलोमीटर की परिधि में मांस , मदिरा आदि के निर्माण एवं बिक्री पर मा . उच्चतम न्यायालय ने भी कड़ा प्रतिबंध लगाया है वहीं प्रदेश शासन के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने भी ऐसे लोगों पर अभियान चलाकर कड़ी कार्यवाही करने के सख्त आदेश दिए हैं फिर ऐसी कौन सी मजबूरी है कि इस धार्मिक क्षेत्र में मा. उच्चतम न्यायालय और प्रदेश शासन के कड़े आदेश कस्बा इंचार्ज के लिए प्रभावी नही हो रहे है शासन के बदले निजाम को लेकर भी कस्बा इंचार्ज कतई चिंतित नहीं है ! वही रफ्तार बेढंगी है जो पहले थी वह अब भी है ! की कहावत को चरितार्थ करते हुए इस धार्मिक नगर में कस्बा इंचार्ज के पद पर तैनात वरिष्ठ उपनिरीक्षक जंग बाज दरोगा गिरधारी सिंह की रंगबाजी के संरक्षण में मादक पदार्थों का कारोबार खुले आम संचालित हो रहा है प्रभारी निरीक्षक ऐ .के. सिंह का स्थानान्तरण होते ही कस्बा इंचार्ज की बल्ले बल्ले हो गयी है मादक पदार्थों का अवैध कारोबार करने वालों और दलालों से अपनी नजदीकियां बढ़ाकर कुछ ही दिनों में यहॉ की आम जनता में खासी चर्चा का विषय बन गए हैं वर्तमान समय में कोतवाल बिहीन कोतवाली मिश्रित सिर्फ दलालों का अड्डा बनकर रह गई है आम जनता के सभी कार्य दलालों के इशारों पर हो रहे हैं इस धार्मिक नगर के कंजड़ टोला की निर्मित कच्ची शराब दूर-दूर तक मसहूर है निवर्तमान कोतवाल एे .के सिंह ने यहां पर कई बार ताबड़तोड़ छापेमारी कर मादक पदार्थों के निर्माण और बिक्री पर कड़ा प्रतिबन्ध लगा दिया था परंतु उनके जाते ही प्रभारी कोतवाल बने कस्बा इंचार्ज गिरधारी सिंह ने यह अवैध ब्यवसाव खुले आम संचालित करा दिया है कोतवाली से चंद कदम की दूरी पर स्थित गांव सराय बीबी , शिवपुरी ,बौधनी, बहुती , बिराहिमपुर , बिजनापुर , ज्ञानसागर , दौलतपुर आदि दर्जनों गांवों में अवैध कच्ची शराब की भट्ठियॉ खुले आम संचालित हो रही है सायं ढलते ही कस्बे से लेकर गॉवो तक नसेड़ियों का हुजूम सुरू हो जाता है और कच्ची शराब के नशे में मदमस्त होकर नशेड़ी देर रात तक उत्पात मचाते रहते हैं कच्ची के नसे में धुत शराबी घर से बाहर निकलने वाली महिलाओं और किशोरियों पर छीटा कसी करने से भी नहीं चूकते हैं इस लिए यहां के निवासियों ने जिला प्रशासन व प्रदेश शासन का ध्यान इस ओर आकर्षित कराते हुए कोतवाली मिश्रित में शीघ्र नया कोतवाल तैनात किये जाने की मांग की है ताकि इस धार्मिक क्षेत्र में हो रहे मादक पदार्थों के अवैध व्यवसाय पर कड़ा प्रतिबंध लगाया जा सके ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

84 − 75 =