आज ही के दिन रंगीन हुआ था ‘दूरदर्शन’!

0

एक जमाने में ‘दूरदर्शन’ ही सब कुछ हुआ करता था. बच्चों से लेकर बूढ़ों तक ज्यादातर लोगों के जहन में इससे जुड़ी कई सारी यादें आज भी ताजा है.

1982 में 25 अप्रैल को आज ही के दिन ‘दूरदर्शन’ पहली बार रंगीन हुआ और इसके बाद देश में रंगीन टीवी का क्रेज बढ़ता चला गया.

रंगीन प्रसारण के 6 महीने के अंदर टीवी की डिमांग बढ़ गई और सरकार ने 50 हजार टीवी सेट विदेशों से आयात किए. रंगीन टीवी को लेकर लोगों के बीच इतना क्रेज था कि 8000 कीमत वाली टीवी के लिए लोग 15000 रुपये देने को तक तैयार थे.

कृषि दर्शन देश में सबसे लंबा चलने वाला दूरदर्शन का कार्यक्रम है. हम लोग, बुनियाद, नुक्कड़, भारत एक खोज और रामायण जैसे कार्यक्रमों ने दूरदर्शन की लोकप्रियता को बुलंदियों पर पहुंचाया.

आज दूरदर्शन 2 राष्ट्रीय और 11 क्षेत्रीय चैनल के साथ कुल 21 चैनल का प्रसारण करता है. 1416 जमीनी ट्रांसमीटर और 66 स्टूडियो के साथ यह देश का सबसे बड़ा प्रसारणकर्ता है.

लालचंद पाल की कलम से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

58 + = 68