चोरी से काटा पेड़

0

सीतापुर थाना संदना अंतर्गत ग्राम कुचलाई में 30 वर्ष से काबिज पट्टेदार की भूमि पर लगे प्रतिबंधित प्रजाति शीशम के 12 पेड़,व अन्य प्रजातियों बबूल,सेमर,चिल्वल के पचासों पेड़ 19 जून की रात्रि में चोरी से जे0सी0बी0 मशीन से उखाड़कर नष्ट कर उसकी भूमि पर जबरन कब्जा करने के मामले में 26 दिन की शासन प्रशासन में अथक दौड़भाग करने के उपरांत भी मजदूरी पेशा पीड़ित व्यक्ति को न्याय नहीं मिल सका है।उपजिलाधिकारी सिधौली किंशुक श्रीवास्तव के स्पष्ट आदेश दिनांक 13 जुलाई पर भी थाना संदना पुलिस द्वारा अपराध का अल्पीकरण कर सुसंगत धाराओं को दरकिनार कर मामूली धाराओं में प्रथम सूचना रिपोर्ट पंजीकृत कर उपजिलाधिकारी के आदेश को भी बौना साबित कर दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम कुचलाई निवासी भल्ला पुत्र छेद्दू को 30 वर्ष पूर्व ग्राम कुचलाई स्थित कृषिक भूमि गाटा सं0 501 मि0 रकबा 0•741 हे0 पट्टे पर मिली थी,तब से वह अपनी भूमि पर काबिज था।उसी भूमि में लगभग 35 सेमी0 मोटे प्रतिबंधित प्रजाति शीशम के 12 पेड़ व अन्य प्रजातियों सेमर,बबूल,चिल्वल के पचासों पेड़ लगे थे ,जिसे पोखई पुत्र गजोधर निवासी कुचलाई व बृजलाल पुत्र अज्ञात नि0 गोंडा थाना संदना ने 19 जून की रात्रि में चोरी से जे0सी0बी0मशीन से उखाड़कर नष्ट करते हुए उसकी पूरी भूमि पर कब्जा कर लिया था। जिससे पीड़ित भल्ला ने दिनांक 20 जून को थानाध्यक्ष संदना को टंकित प्रार्थना पत्र दिया परंतु उन्होंने प्रकरण भूमि संबंधी होने का हवाला देकर उसे तहसील जाने को कहते हुए टरका दिया।मजबूरन पीड़ित ने प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने हेतु दिनाँक 21 जून को जिलाधिकारी,पुलिस अधीक्षक,थानाध्यक्ष संदना को रजिस्टर्ड डाक ,जन सुनवाई शिकायत सं0 40015418040186 व 40015418040198 द्वारा कृमशःजिलाधिकारी व पुलिस महानिदेशक तथा उपजिलाधिकारी सिधौली को व्यक्तिगत रूप से मिलकर प्रार्थना पत्र दिए,जिस पर उपजिलाधिकारी ने राजस्व निरीक्षक मनवा से जांच कर आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए जिसके अनुपालन में राजस्व निरीक्षक राजेन्द्र श्रीवास्तव नेदिनांक 04 जुलाई को मौके पर जाकर पीड़ित को उसकी भूमि पर कब्जा दिला दिया,परन्तु दिनांक 08 जुलाई को विपक्षीगण ने पुनः मेड तोड़कर कब्जा कर लिया।जिस पर दिनांक 09 जुलाई को उपजिलाधिकारी को पुनः प्रार्थना पत्र देने पर उन्होंने राजस्व निरीक्षक से आख्या मांगी, राजस्व निरीक्षक ने अपनी आख्या दिनांकित 21जून/09 जुलाई में स्पष्ट लिखा है कि दिनांक 19 जून को पोखई पुत्र गजोधर ने जे0सी0बी0मशीन से पट्टेदार की भूमि पर जबरन कब्जा करते हुए खेत में लगे शीशम के 12 पेड़,सेमर के 8 पेड़ उखाड़कर नष्ट कर दिये हैं,जिसकी कुछ लकड़ी खेत पर पड़ी है,शेष लकड़ी पोखई पुत्र गजोधर द्वारा उठा ले जाई गई है। राजस्व निरीक्षक की जांच आख्या के आधार पर दिनाँक 13 जुलाई को उपजिलाधिकारी ने थानाध्यक्ष संदना व प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी वैन प्रभाग सीतापुर को पत्रांक सं0460/एस टी/2018 दिनांक 13 जुलाई 2018 द्वारा पत्र भेजकर अवैध कब्जा एवं अवैध रूप से पेड़ों के कटान के सम्बन्ध में कार्यवाही का आदेश दिया था,जिस पर दिनांक 14 जुलाई को थाना संदना में वर्तमान प्रार्थना पत्र दिनांक 09 जुलाई को दरकिनार कर आरोपी बृजलाल पुत्र अज्ञात व जे0सी0बी0चालक को बचाने के उद्देश्य से रजिस्टर्ड डाक से भेजे गए 23 दिन पुराने प्रार्थना पत्र पर प्रथम सूचना रिपोर्ट सं0 0174 अंतर्गत धारा 427 व 447 भा0दं0सं0 दर्ज कर प्रतिबंधित प्रजाति शीशम के बिना अनुमति चोरी से रात्रि में पेड़ कटान व चोरी से उठा ले जाई गई लकड़ी की वन अधिनियम व भा0दं0सं0 की सुसंगत धाराओं को न लगाकर अपराध का अल्पीकरण करते हुए गरीब पीड़ित के साथ घोर अन्याय किया है तथा अपनी कार्यप्रणाली से उपजिलाधिकारी सिधौली के स्पष्ट आदेश को भी बौना साबित कर दिया है।

Ramnagar pal

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

6 + 2 =