भारत रत्न समेत अन्य पुरस्कारों की हुई घोषणा

0

राष्ट्रपति भवन ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, गायक भूपेन हज़ारिका (मरणोपरांत) और सामाजिक कार्यकर्ता व पूर्व राज्यसभा सांसद नानाजी देशमुख (मरणोपरांत) को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न देने की घोषणा की है. इसके साथ ही चार लोगों को पद्म विभूषण, 14 को पद्म भूषण और 94 को पद्म श्री दिया जाएगा.

सभी प्रकार के जीवन बीमा के लिए अवस्य सम्पर्क करें
सभी प्रकार के जीवन बीमा के लिए अवस्य सम्पर्क करें

        भूपेन हजारिका
भूपेन हजारिका ऐसे बिरले कलाकारों में रहे जो कि खुद गीत लिखते थे, संगीत देते थे और उसे गाते भी थे. आठ दिसंबर 1926 को असम में जन्मे भूपेन हजारिका का पांच नवंबर 2011 को निधन हो गया था. उन्होंने कई गीतों को जादुई आवाज दी. भूपेन हजारिका का जन्म असम के तिनसुकिया जिले की सदिया में हुआ था. असम का निवासी होने के कारण भूपेन असमिया संस्कृति और संगीत से भी जुड़े रहे.

       नानाजी देशमुख
11 अक्टूबर 1916 को जन्मे नानाजी देशमुख का 27 फरवरी 2010 को निधन हो गया. वह समाजसेवी और भारतीय जनसंघ के नेता थे. नानाजी देशमुख का जन्म महाराष्ट्र के हिंगोली जिले में एक मराठा परिवार में हुआ था. 1940 में डॉ. हेडगेवार के निधन के बाद नानाजी ने संघ की शाखाओं से जुड़ने के लिए युवाओं को प्रेरित किया. उन्होंने दीन दयाल उपाध्याय शोध संस्थान के तहत तमाम समाजसेवा से जुड़े कार्यों को विस्तार दिया.

          प्रणव मुखर्जी
प्रणव मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति रह चुके हैं. उन्होंने 25 जुलाई 2012 को राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी. वह इस पद पर 25 जुलाई 2017 तक रहे. 1984 में प्रणव मुखर्जी वित्तमंत्री रह चुके थे. कांग्रेस के अग्रिम कतार के नेताओं में गिने जाने वाले प्रणव मुखर्जी ने नरसिम्हा राव के मंत्रिमंडल में भी 1995 से लेकर 1996 तक विदेश मंत्री के रूप में काम किया था.

किसी भी तरह के आयोजन के लिए एक बार सम्पर्क करें
किसी भी तरह के आयोजन के लिए एक बार सम्पर्क करें 

    पद्म विभूषण पुरस्कार विजेता –
अनिल कुमार नाइक (उद्योग) I बाबासाहेब पुरंदरे (कला) I तीजन बाई (कला) I इस्माइल उमर गुलेह (विदेशी नागरिक)

     पद्मभूषण पुरस्कार विजेता –
एस.नंबी नारायण (विज्ञान) I कुलदीप नैयर, मरणोपरांत : पत्रकारिता I बछेंद्री पाल : (खेल-पर्वतारोहण) I करिया मुंडा (लोक मामले) ..अन्य।

    पद्मश्री पुरस्कार विजेता
कादर खान (मरणोपरांत) : कला I मनोज बाजपेयी : कला I सुनील छेत्री (फुटबॉल): खेल I दिनयार कांट्रेक्टर : कला I प्रभू देवा : नृत्य I गौतम गंभीर: खेल I रोहिणी गोडबोले : विज्ञान I सुदाम काते : स्वास्थ्य I वामन केंद्रे : कला I बजरंग पुनिया (कुश्ती) : खेल I शंकर महादेवन : कला I नागिनदास संघवी: शिक्षा I शब्बीर सैय्यद : सामाजिक कार्य। अजय ठाकुर (कबड्डी) : खेल ..अन्य।

लिटिल चैम्प स्कूल में अपने बच्चो का भविष्य बनाएं
लिटिल चैम्प स्कूल में अपने बच्चो का भविष्य बनाएं

 

अनुराग पाल के साथ लालचंद पाल की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 + 5 =