172 भेंडो की मौत से दहले भेंड पालक

0

172 भेंडो की मौत से दहले भेंड पालक।

तीन पशु चिकित्सकों की टीम ने किया पीएम

लिटिल चैम्प स्कूल में अपने बच्चो का भविष्य बनाएं
लिटिल चैम्प स्कूल में अपने बच्चो का भविष्य बनाएं

संतकबीरनगर। स्थानीय क्षेत्र मे अज्ञात कारणों से तीन भेंड पालक की 172 भेंडो की मौत से भेंड पालक दहल गये सूचना की बाद भी डाक्टरों की टीम जहां विलंब से पहुचने का आरोप लगे हैं वही पीएम के बाद शवों को जमीन मे दफन करने की जगह बेजुबान जानवरों के साथ पशु चिकित्सकों ने हैवानियत का नजीर पेश किया और राप्ती नदी मे षवों को फेकवा दिया। जिसका नतीजा यह है कि नदी का जलस्तर काफी नीचे हैं और बहाव भी पानी मे नही हैं। ऐसे मे भेंडो के शव जल पर पूरी तरफ तैर रहे हैं औंर संक्रमण की स्थिति पैदा कर रहे हैं जिसकों लेकर भेंड पालकों व क्षेत्रीय लोगो मे रोष हैं

सभी प्रकार के जीवन बीमा के लिए अवस्य सम्पर्क करें
सभी प्रकार के जीवन बीमा के लिए अवस्य सम्पर्क करें

मेंहदावल थानाक्षेत्र के ग्राम तिवारीपुर से सटे बह रहे राप्ती नदी के तट पर भेंड पालकों ने अपने भेंडो को बौधराताल से चरा कर यहां डेरा गिराया। गुरुवार की शाम से ही भेंड चक्कर खाकर गिरे और उनकी मौत होने लगी जिससे भेंड पालक दहशत मे आ गये और गांव वालों की सहयोग से सूचना पशु चिकित्सा अधिकारी बढया ठाठर को दिया पर सूचना के बाद भी पशु चिकित्सक मौके पर नही पहुचे जिसका नतीजा रहा कि शुक्रवार की सुबह तक तीन पालकों की 172 भेंडो की उनके सामने ही दर्दनाक मौत हो गयी। भेंड पालक रामवृक्ष पाल,चन्द्रशेखर पाल,भगौती पाल पंचायत पेडारीकलां के गांव सिंगरहट के निवासी हैं भेंडो की मौत की सूचना ज्योहि क्षेत्र के लोगो को हुई तो भारी भीड जमा हो गयी औंर लोगो ने पशुपालन विभाग को जरीये मोबाइल सूचना देने के साथ ही सोशल मीडिया का सहारा लिया जिसपर करीब 11 से 12 बजें के बीच मे तीन चिकित्सकों की टीम मौके पर पहुची और एक भेंड का पीएम करते हुए जांच के लिए आवष्यक अंगो को सुरक्षित करते हुए सभी भेंडो के शवों को जमीन मे दफनाने की कवायद करने की जगह पशु चिकित्सकों ने राप्ती नदी मे फेकवाते हुए अपनी जिम्मेदारियों से मुक्ति पा लिया। अब स्थिति यह है कि नदी मे पानी कम व जल स्तर मे कोई बहाव न होने के कारण सारे शव पानी मे तैर रहे हैं जिससे महामारी व संक्रमण फैलने का खतरा नदी से सटे गांव मे हो गया हैं। क्षेत्रीय लोगो ने चिकित्सकों के इस कृत्य पर रोष जताते हुए कहा कि बेजुबान जानवरों के शवों को नदी मे फेकवाकर पशु चिकित्सकों ने हैवानियत का परिचय दिया हैं इससे क्षेत्र मे संक्रमण व महामारी फेलने की आषंका बढ गयी हैं सभी शव नदी मे तैरते हुए दिखाई दे रहे हैं।
किसी भी तरह के आयोजन के लिए एक बार सम्पर्क करें
किसी भी तरह के आयोजन के लिए एक बार सम्पर्क करें

पशु चिकित्सक डा.ए.के.शाही ने कहा कि देखने मे भेंडो की मौत प्वाइजनिंग से लग रही हैं पीएम करते हुए उनके कुछ प्रमुख अंगो को जांच के लिए सुरक्षित रखते हुए आगरा भेजा जायेगा जांच रिर्पोट आने के बाद ही मौत का कारण स्पष्ट होगा।

रिपोर्ट राम बेलास प्रजापती

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

− 4 = 2