हुड्डा, शैलजा को पछाड़ सुरजेवाला ने मारी बाजी

0

28 अगस्त 2018
रोहतक÷【संजय पांचाल】

रोहतक। कांग्रेस उच्चकमान ने हरियाणा में पार्टी की विजय सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश के तीन कांग्रेसी नेताओं को अलग-अलग कमेटियों में सदस्य बनाकर अपनी नीति तय कर दी है। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा और पूर्व मंत्री व कांग्रेस के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला को उच्चकमान ने महत्व देते हुए अपनी तीन नवगठित कमेटियों का सदस्य बनाया है।

उच्च कमान ने कांग्रेस की कोर कमेटी में रणदीप सिंह सुरजेवाला को सदस्य बनाकर प्रदेश कांग्रेस में उनका महत्व समझा है। उनके कोर कमेटी का सदस्य बनने से सुरजेवाला का हरियाणा की राजनीति में कद बढ़ा है। यही नहीं, सुरजेवाला को चुनाव के लिए बनी प्रचार समिति में भी शामिल कर उनकी योग्यता का लौहा माना है।

रणदीप सिंह सुरजेवाला टीवी चैनलों और प्रिंट मीडिया में कांग्रेस की नीतियों का बखान करके विरोधी पक्ष को घेरते है उससे कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी काफी प्रभावित बताए जाते है। रणदीप सिंह सुरजेवाला इन दिनों हरियाणा में प्रदेश भाजपा सरकार की जन विरोधी नीतियों को उजागर करने में जुटे हुए है और लोगों को कांग्रेस के प्रति लामबंद करने में लगे है। रणदीप सिंह सुरजेवाला के समर्थक ये कहने से भी नहीं चूक रहे कि यदि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी तो वहीं प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री होंगे। इसी के चलते उन्हें दो कमेटियों का सदस्य नियुक्त किया गया है। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी शैलजा को कांग्रेस के मेनिफेस्टो कमेटी का सदस्य बनाकर उनकी अहमियत को माना है।

कुमारी शैलजा केंद्र में कई वर्षों तक राज्यमंत्री के पद पर रह चुकी है और उनकी छवि काफी स्वच्छ मानी जाती है। चूंकि उनका कांग्रेस की पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से करीबी नाता है, इसलिए पार्टी में उनका अलग स्थान है। पिछले दिनों कुमारी शैलजा को प्रदेश कांग्रेस की बागडोर संभालने की चर्चाएं बड़े जोरों पर थी लेकिन किन्ही कारणों के चलते इन चर्चाओं पर अब एक प्रकार से विराम लग गया है। दलित नेता होने के कारण उनका दलित समाज पर गहरा प्रभाव है। इसी के चलते उन्हें कांग्रेस हाईकमान ने अहम जिम्मेदारी सौपी है।
पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा प्रदेश की राजनीति में अपनी अलग छवि बनाए हुए है और जाट लैंड में काफी लोकप्रिय नेता माने जाते है। कांग्रेस उच्चकमान में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की पैठ के कारण ही उन्हें मेनिफेस्टो कमेटी का सदस्य बनाया गया है। पूर्व सीएम प्रदेश में पांच जनक्रांति यात्राएं निकालकर मतदाताओं को कांग्रेस के पक्ष में करने में जुटे है जिससे उच्चकमान काफी प्रभावित नजर आ रहा है। प्रदेश के मतदाताओं पर उनकी पकड़ देखकर राहुल गांधी ने ही उन्हें मेनिफिस्टो कमेटी का सदस्य बनाया है।

तीनों नेताओं की गिनती कांग्रेस के वफादार नेताओं में की जाती है। एक प्रदेश से ही तीन नेताओं को अलग-अलग कमेटियों में सदस्य बनाया जाना यह सिद्ध करता है कि कांग्रेस उच्चकमान प्रदेश के इन कांग्रेसी नेताओं पर विश्वास व्यक्त करती है और उन्हें आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में अहम मानती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

61 + = 66