सात दिवसीय श्रीमद भगवत कथा का समापन

0
    • कन्या भोज के साथ विशाल भंडारे किया गया आयोजन
    • संवाददाता चंद्रशेखर प्रजापति
    • (सीतापुर ) भारतीय ग्रन्थ सदा से ही समाज व देश को अखण्ड बनाते रहे हैं l
      यह बात क्षेत्र के ग्राम झरियापुरवा कोड़री में चल रही सप्त दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा के समापन के मौके पर सन्त त्यागी जी महाराज ने कथा रसपान कराते हुए कही l आगे उन्होंने कहा कि आधुनिक के दौर में समाज को जागृत करके भारतीय संस्कृति के अध्यन करने की परंपरा डालनी होगी l श्रीमद् भागवत कथा महर्षि वेदव्यास द्वारा रचित भक्ति प्रधान है और अनंत ब्रम्हांड की सर्वोच्च सत्ता को उनके उपासक को महसूस कराने की आध्यात्मिक शक्ति ही श्रीमद् भागवत है तथा इसका मुख्य उद्देश समाज को संस्कारित करके नई पीढ़ी को अपने सनातन धर्म के अधिक उन्नत इतिहास का दिग्दर्शन भी कराना है l खुद बड़े बुजुर्गों का आदर करके अपने पाल्यों से अच्छे आचरणों की अपेक्षा करनी चाहिए l
      कथा का समापन कृष्ण के व्रज की होली खेलने के साथ किया गया l इस मौके पर कृष्ण लाल प्रजापति , राजेश कुमार प्रजापति , राजकुमार प्रजापति ,जितेंद्र कुमार प्रजापति, मनोज गौतम, अमित कुमार, प्रजापति विपिन कुमार , दीपू ,बच्चू लाल , अवधेश प्रजापति ,अनिल कुमार प्रजापति, महेश प्रसाद ,प्रजापति मोहित प्रजापति अनुज कुमार चक्रवर्ती राम रानी, सालिक राम, बृजपाल ,पंकज ,काशीराम प्रजापति ,मुन्ना लाल प्रजापति, दिवाकर प्रजापति ,कृष्णा प्रजापति आदि लोग उपस्थित रहे l

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

+ 19 = 29