शिक्षा की नहीं है ना कोई उम्र ना सीमा- कैप्टन अभिमन्यु

0

22 सितम्बर 2018
रोहतक÷【संजय पांचाल】

दीक्षांत समारोह में दिया वित्तमंत्री ने संबोधन, 553 छात्राओं को प्रदान की डिग्रियां

गुरुजनों द्वारा दी गयी शिक्षा का सदुपयोग करते हुए समाज को सही दिशा देने के लिए आगे आने का आह्वान छात्राओं से करते हुए आज हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि भारत की बेटियां समाज तथा राष्ट्र में सकारात्मक बदलाव का संदेश वाहक बनेंगी

कैप्टन अभिमन्यु आज महारानी किशोरी महिला महाविद्यालय, रोहतक में आयोजित प्रथम दीक्षांत समारोह के दौरान बतौर मुख्यातिथि संबोधन दे रहे थे। वित्त मंत्री ने कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्वलन करके सरस्वती वंदना के साथ विधिवत तरीके से की।

मुख्यातिथि के संबोधन से पूर्व अतिरिक्त उपायुक्त और जाट संस्था के प्रबंधक एवं कार्यकारी अधिकारी अजय कुमार आईएएस ने उनका स्वागत करते हुए उनके समक्ष महविद्यालय की उपलब्धियों को रखा।

इस अवसर पर उनके साथ सुनील दलाल, हरियाणा सरकार के एएजी रामनिवास हुड्डा व महाविधालय की प्राचार्या भी विशेष तौर पर मौजूद रही। दीक्षांत समारोह में शिरकत करने से पूर्व मुख्यातिथि कैप्टन अभिमन्यु ने सर छोटूराम की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करते हुए उन्हें नमन किया।

वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने दीक्षांत समारोह में उपाधि लेने वाली सभी छात्राओं को अपने आशीर्वचन में कहा कि उनका बचपन इन्ही शिक्षण संस्थाओं के बीच गुजरा है, इसलिए यहां बतौर मुख्यातिथि आना उनके लिए गौरव की बात है। उन्होंने उपस्थित सभी छात्राओं को उनके शिक्षा जीवन के इस महत्त्वपूर्ण पड़ाव पर बधाई देते हुए कहा कि जीवन में स्तुति, प्रार्थना और उपासना को दिनचर्या में ग्रहण करने वाले मनुष्य जीवन में कभी नाकामयाब नहीं हो सकते। आप सभी ने विद्या धर्म को निभाकर जीवन का सबसे बढ़िया कार्य किया है।

उन्होंने कहा कि संघर्ष जीवन का एक अहम् हिस्सा है इसलिए भागने की बजाए दृढ़ता से इसका सामना करें। विफलता की चिंता ना करते हुए हमेशा आगे बढे , संघर्षशील व्यक्तितव के लिए अगर एक रास्ता बंद होता है तो प्रयास करने पर सैंकड़ों रास्ते अपने आप दिखाई देने लगते है।

उन्होंने इस मौके पर शिक्षकों और आचार्यों को भी बधाई देते हुए छात्राओं से कहा कि गुरुजनो और माता पिता का सदैव सम्मान करें, क्योंकि ये सब ही आपको सही दिशा दिखाने के लिए हमेशा प्रयासरत रहते हैं। गुरुजन ही आपको जीवन निर्माण की प्रेरणा देते हैं इसलिए उनके प्रति हमेशा कृतज्ञता का बोध रखते हुए जीवन में आगे बढ़ें।

कप्तान अभिमन्यु ने कहा कि इस डिग्री को हासिल करने का सीधा सा अभिप्राय है कि आपने सीखना सीख लिया है और अभी तक तो आपने जो शिक्षा ग्रहण की है उसे व्यवहार में लाना है। पढ़ाई करना और इसे प्रयोग में लाना दोनों अलग आयाम है और आपको इनके बीच सही संतुलन बनाते हुए समाज को एक नयी दिशा देनी है। उन्होंने कहा कि शिक्षा की ना तो कोई उम्र होती है और न ही कोई सीमा। मनुष्य स्वयं में सम्पूर्ण नहीं हो सकता, जिस दिन आपको इस बात का बोध हो जाएगा आपमें सीखने की और अधिक इच्छा जागृत होगी।

उन्होंने इस मौके पर एक संस्कृत के श्लोक का हिंदी में अनुवाद करते हुए छात्राओं को प्रेरणा दी कि विद्या से विनयशीलता, विनयशीलता से पात्रता और पात्रता से धन की प्राप्ति होती है। उन्होंने कहा कि अगर आप इस धन को धर्मानुसार प्रयोग करेंगे तो आपको असीम सुख की अनुभूति होगी क्योंकि जीवन का लक्ष्य ही सुख प्राप्त करना होता है।

वित्त मंत्री ने कहा कि कालेज के ये खट्टे मीठे अनुभव, यहां मिले मित्रगण, गुरुजन और हंसी ख़ुशी बिताये पल आपको जीवन भर याद रहने वाले है इसलिए आपस में जुड़े रहते हुए मनमुटाव भुलाते हुए जीवन के मूल उद्देश से ना भटके और सदा सदमार्ग पर चलने का प्रयास करें। उन्होंने छात्राओं को अपने जीवन में स्वाभिमान और सम्मान के साथ कभी भी समझोता ना करने की प्रेरणा दी। उन्होंने इस अवसर पर उपस्थित सभी छात्राओं को सफलता का मूल मंत्र देते हुए कहा कि हटे नहीं , झुके नहीं, हमेशा एक संकल्प के साथ आगे बढ़ें तो सफलता के रास्ते स्वयं ही खुलते जाएंगे।

आज के दीक्षात समारोह में माननीय मुख्यातिथि कप्तान अभिमन्यु ने कला संकाय ,खेल विज्ञान, शारीरिक शिक्षा, और वाणिज्य स्नातक सहित 10 संकायों में उत्तीर्ण 553 छात्राओं को अपने हाथो से डिग्री प्रदान करते हुए उनके उज्वल भविष्य की कामना की।

दीक्षांत समारोह में प्रिंसिपल डॉ. कृष्णा चौधरी, श्रीमती शुशीला धनखड़, कुसुम लता, डॉ. निशा हूड्डा, भाजपा के मीडिया प्रभारी शमशेर खरक, सतीश हूड्डा, नवीन ढुल व जसवंत बलियाना सहित महाविद्यालय का समस्त स्टाफ और छात्राएं भी शामिल हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

+ 29 = 38