शब्द “साधना साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था” का होली मिलन काव्य गोष्ठी का भव्य आयोजन 

0

शब्द “साधना साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था” का होली मिलन काव्य गोष्ठी का भव्य आयोजन

 

भोपाल / साहित्य का, साहित्य के लिए, साहित्य को समर्पित शब्द साधना अलंकरण भाषा की शक्ति उसके साहित्य से न सिर्फ समृद्ध होती है बल्कि उससे सामाजिक विवेक, सांस्कृतिक उज्ज्वलता और मानवीय मूल्यों का प्रकाश प्राप्त करती है। यह बात संस्था की अध्यक्ष डॉ विनीता प्रजापति कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही आगे उन्होंने बताया हिंदी और समस्त भारतीय भाषाओं का साहित्य हमारे सामूहिक स्वप्न को प्रतिबिंबित करता है। शब्दों के इस सफर में खुद की उपस्थिति को शब्द साधना एवं सांस्कृतिक संस्था दायित्वपूर्ण उपक्रम की तरह देखता रहा है। खासकर साहित्य में संघर्ष और उपलब्धि की जो विलक्षण परंपरा है उसका सतत सम्मान और विचार-प्रसार शब्द साधना की भूमिका का अभिन्न अंग रहा है। शब्द “साधना साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था” का होली मिलन काव्य गोष्ठी का भव्य आयोजन रेखांकन ललित कला अकादमी के सभागार मे संपन्न हुआ । कार्यक्रम के प्रारंभ में संस्था की अध्यक्ष डॉ विनीता प्रजापति ने सभी का स्वागत किया तत्पश्चात दीप प्रज्जवलन और मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। कार्यक्रम में सुंदर ढंग से कविताओं की प्रस्तुतियां की गयीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्णिमा चतुर्वेदी ने की और मुख्य अतिथि के रुप मे चंद्रशेखर तापी सुप्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त आनंद /प्रेरक वक्ता रहे । शब्द साधना साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था की अध्यक्ष डॉक्टर विनीता प्रजापति संरक्षक डॉक्टर रेखा भटनागर सचिव सुनीता पटेल , मीडिया प्रभारी बोधमिता श्रीवास्तव एवं बिन्दु त्रिपाठी एवं अतिथि सतीश पुरोहित और श्रीमती शीलू शर्मा ने भी अपनी अपनी-अपनी रंगबिरंगी रचनाओं को प्रस्तुत किया और बेहतरीन होली मिलन काव्य गोष्ठी को रंगीन बनाया । कार्यक्रम का सफल संचालन सोनिया श्रीवास्तव ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 + 6 =