योेगेश की किक से निकला सिल्वर, चैम्पियन बनकर लौटा गुरुग्राम

0

4 जुलाई 2018
संजय पांचाल रोहतक(हरियाणा)

गुरुग्राम(हरियाणा)कहते हैं प्रतिभा छिपाने से नहीं छिपती। ऐसे ही गांव से एक गुदड़ी के लाल ने विदेशी धरती मलेशिया में जब किक और पंच बरसाने शुरू किए तो कई देश धराशाही हो गए।

बताते चलें कि मलेशिया में इंटरनेशनल कर्राटे चैम्पियनशिप का आयोजन किया गया था। इस प्रतियोगिता में लगभग 100 देशों के खिलाड़ियों ने भाग लिया। पूरे हरियाणा से 20 खिलाड़ी इसमंें गए जिनमें सात खिलाड़ी गुरुग्राम से थे। इन सात में से तीन खिलाड़ियों का पंच मैडल पर जाकर लगा।

ढोल नगाड़ों से हुआ खिलाड़ियों का स्वागत
बताते चलें कि साइबर सिटी के गांव दौलताबाद का रहने वाला योेगेश जांघु व गुरुग्राम से आराधाना चैहान और ध्रूव गर्ग मैडल लेकर मंगलवार को गुरुग्राम पहुंचे। ग्रामीणों ने इनका एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया। ढोल नगाड़ों के साथ पहुंचे कर्राटे चैम्पियन योेगेश ने कहा उसका अगला लक्ष्य गोल्ड है।

गुरुग्राम के तीन खिलाड़ी लेकर आए मैडल
जिला सेक्रेटरी सुनील सैनी ने बताया कि मलेशिया में आयेाजित इस प्रतियोगिता में योगेश की आस्ट्रेलिया, इरान, थाइलैंड के खिलाड़ियों से टक्कर हुई। कड़े मुकाबले में योगेश ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए सिल्वर जीता है। उन्होंने बताया कि आराधना चैहान और ध्रूव गर्ग ने ब्राउंज मैडल लेकर अपने देश लोटे हैं।

योगेश पर है पूरे गांव को गर्व: सरपंच
जीत कर घर लौटे योगेश जांघू ने जीत का श्रेय अपने माता-पिता, दादा-दादी के साथ अपने कोच को दिया है। योगेश के दादा भीम सिंह के मुताबिक उनके पौते ने आज उनका देश का नाम विदेशी धरती रोशन किया है। इस पर उन्हें गर्व है। गांव पहुंचने पर दूर दराज के लोगों ने ढोल नगाड़ों से योगेश का स्वागत किया। गांव के सरपंच योगेन्द्र सिंह ने बताया कि उन्हें अपने इस बच्चे पर गर्व हैं। आज योगेश की वजह से पूरे गांव का नाम रोशन हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

23 − = 15