मनोहर सरकार के लिए बढ़ी परेशानी, होगा अनशन

0

18 सितम्बर 2018
रोहतक÷【संजय पांचाल】

रोहतक। रोडवेज संयुक्त संघर्ष समिति ने सरकार द्वारा 720 बसों को किलोमीटर स्कीम पर लागू करने के फैसले का जोरदार विरोध किया और चेताया कि अगर सरकार ने अपने इस फैसले को वापस नहीं लिया तो 20-21 सिंतबर को सत्याग्रह आंदोलन के तहत 24 घंटे का क्रमिक अनशन शुरू किया जाएगा। सोमवार को रोडवेज यूनियन मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए समिति के वरिष्ठ सदस्य वीरेन्द्र सिंह धनखड़ व इन्द्र सिंह बडाना ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार अपने चहेतो को फायदा पहुंचाने के लिए निजीकरण को बढ़ावा दे रही है और सरकारी विभागों को तालाबंदी की और धकेल रही है, जिसे प्रदेश का कर्मचारी किसी कीमत पर सहन नहीं करेगा।

उन्होंने कहा कि गत वर्ष नई परिवहन नीति के विरोध में रोडवेज का चार दिन तक चक्का जाम रहा था, तब सरकार द्वारा माननीय उच्च न्यायालय में शपथ पत्र दिया गया था कि 2016-17 की नई परिवहन नीति को रद्द किया जाएगा, लेकिन सरकार अपने वायदे से मुकर रही है और अब 720 बसो के टैंडर इस शर्त पर जारी किए कि एक ठेकेदार के पास पांच बसे अवश्य होनी चाहिए, जोकि साफ है कि सरकार केवल पूंजीपतियों को लाभ पहुंचा रही है।

कर्मचारी नेताओं ने बताया कि इससे पूर्व वर्ष 2015 में एक बस का मालिक आवेदन कर सकता था और उस समय 16 रूपये पर किलोमीटर के लिए आवेदन किया था, जिसमें केवल दस आवेदन ही प्राप्त हुए थे। उन्होंने बताया कि अब प्रदेश सरकार द्वारा 720 बसों को 32 से 39 रूपये प्रति किलोमीटर का समझौता किया गया, जबकि सरकारी आंकडो के ही अनुसार पर किलोमीटर की औसतन 25 या 26 रूपये पर किलोमीटर ही पढ़ती है। इससे स्पष्ट जाहिर होता है कि जनता के गाढे कमाई को सरकार निजी हाथों में लूटा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

7 + 1 =