प्रोफेसर रेखा सक्सेना स्मृति चिन्ह व अंग वस्त्र देकर किया सम्मानित।

0

प्रोफेसर रेखा सक्सेना व प्रयाग लाल वॉल को स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मानित।
बी एड विभाग डीएसएन कॉलेज उन्नाव में प्रोफेसर रेखा सक्सेना रिटायर्ड होने पर सेवानिवृत्ति कार्यक्रम

उन्नाव/ उत्तर प्रदेश

अंधकार को हरने वाली दिव्य ज्ञान की ज्योति हो। दया प्रेम ममता की देवी करुणा की प्रतिमूर्ति हो मिली आपकी स्नेह दृष्टि तो संवर गया उपवन सारा, स्मित रेखा सहज भाव से हम सब की प्रतिपूर्ति हो।
यह बात प्रोफेसर डाक्टर रेखा सक्सेना के रिटायर्ड होने पर सेवानिवृत्ति कार्यक्रम में आयोजक विपिन सिंह ने प्रोफेसर रेखा सक्सेना को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित करते हुए कही आगे उन्होंने कहा कि डाक्टर रेखा सक्सेना के सेवानिवृत्त होने पर हम लोगों को भी कष्ट हो रहा है लेकिन अब वह और मेरे लिए आदर की पात्र बन गई हैं । प्रोफेसर रेखा सक्सेना की यादों और सुवचनों से हम सबको सदैव कुछ अच्छा करने की नसीहत मिलती रहेगी । प्राचार्य डॉक्टर मानवेंद्र सिंह ने कहा किसी भी नौकरी में आने से जितनी खुशी मिलती है कहीं उससे कई गुना ज्यादा गम होता है जब अपने सहकारों से जुदा होता है । डॉक्टर रेखा सक्सेना ने बयालीस वर्षों तक अनवरत शिक्षण कार्य बी एड विभाग डी एस एन कालेज रहा है। डॉक्टर जुगेश कुमार ने बताया प्रोफेसर रेखा सक्सेना एक अच्छी प्राध्यापक होने की सभी जिम्मेदारियों का पूरी प्रतिबद्धता से पालन किया है। मुझे आज अपने कॉलेज के इतने होनहार प्रोफेसर कि विदाई का बहुत दुख है हालांकि, भाग्य को बदला नहीं जा सकता। आप और आपका कठिन परिश्रम सदा हमारे दिलों में रहेगा।
विभागाध्यक्ष डाक्टर ममता चतुर्वेदी ने कहा कि शिक्षक कभी रिटायर्ड नहीं होता अपितु औपचारिक सेवानिवृत्ति के बाद उसे शिक्षक के साथ साथ समाज व देश को मार्गदर्शक भी बनना पड़ता है जिसके सानिध्य में देश व समाज उत्तरोत्तर प्रगति की सीढ़ियों पर चढ़ता है । कार्यक्रम संयोजक डॉक्टर सुनील वर्मा ने कहा कि डाक्टर रेखा सक्सेना का ब्यक्तित्व प्रेरणाशील है जो हमें बेहतर करने की प्रेरणा प्रदान करता है ।आपकी यह सफलता भाग्य नहीं है बल्कि आपकी वर्षों की कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता का परिणाम है। आपके शिक्षण समय के दौरान आपके द्वारा प्राप्त की गयी उपलब्धियों को यह कॉलेज कभी नहीं भूल सकता और साथ ही इस कॉलेज में विद्यार्थियों के लिए शैक्षणिक वातावरण को बनाने में भी आपका योगदान अविस्मरणीय है। आपने सिर्फ अपनी मेहनत और लगन के आधार पर ही इस कॉलेज में अपनी एक अलग और अद्भुत पहचान को स्थापित किया है। इस मौके पर प्रयाग लाल वॉल , डॉक्टर गीता श्रीवास्तव, डॉक्टर जुगेश कुमार, डॉक्टर रचना त्रिवेदी ,डॉक्टर रंजीत सिंह, डॉक्टर पूनम शुक्ला, डाक्टर सुनील वर्मा, विपिन सिंह सुभाष चंद्र , अंकित कुमार हरकेश सुरेंद्र कुमार, पाली वर्मा ,श्रीकांत ,लक्ष्मी वर्मा, विवेक पटेल ,प्रशांत ,अभिषेक श्रीवास्तव , अवनीश, गुरुदेव हरिदास यादव, राहुल यादव ,राहुलेन्र्द, पूनम देवी, अंजली, नगमा, प्रियंका, शेफाली, शिवांगिनी कनौजिया ,साधना, दीपिका ,रचना ,मनीषा, शिवांकर, कुमार, अंकुर कुमार, शिव प्रकाश, बुशरा ,बेनजीर, आदि तमाम लोग उपस्थित रहें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

41 − 38 =