जाट आरक्षण के लिए इस बार मराठों की तरह से सड़कों पर उतरेंगे- यशपाल मलिक

0

4 अगस्त 2018
संजय पांचाल रोहतक(हरियाणा)

भिवानी बवानीखेड़ा के गांव धनाना पहुंचे जाट नेता यशपाल मलिक ने कहा कि आरक्षण व रिहाई की मांग को लेकर हर हाल में 16 अगस्त से बङे स्तर पर आंदोलन शुरु होगा और आंदोलन की रुपरेखा 12 अगस्त को रोहतक जसिया गांव में तय की जाएगी। साथ ही उन्होने कहा कि जरूरत पङी तो इस बार आंदोलन में मराठों की तरह सख्ती भी बरती जाएगी।
बता दें कि गांव धनाना में जिला स्तर पर अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति द्वारा सर्वजातिय भाईचार सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में जाटों के साथ मुस्लिम व दलित समुदाय के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया। सम्मेलन में समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक मुख्य वक्ता के तौर पर पहुंचें।
इस दौरान मीडिया से बातचीत में जाट नेता यशपाल मलिक ने कहा कि सरकार से चार बार जेलों में बंद युवाओं की रिहाई व आरक्षण को लेकर वार्ता हुई, लेकिन मांग पूरी ना होने पर एक बार फिर इन भाईचारा सम्मेलनों से सरकार से मांग पूरी करने के लिए कहा जा रहा है।

उन्होने कहा कि 15 अगस्त तक उनकी मागं पूरी नहीं होई तो हर हाल में 16 अगस्त से एक बार फिर आंदोलन किया जाएगा। मलिक ने कहा कि आंदोलन की रूपरेखा 12 अगस्त को रोहतक के जसिया गांव में तय की जाएगी। साथ ही मलिक ने संकेत दिए कि जरूरत पङी तो इस बार आंदोलन में मराठों की तरह सख्ती भी बरती जाएगी।
सांसद राजकुमार मलिक व यशपाल मलिक प्रदेश सरकार के मोहरे होने की चर्चा के सवाल पर यशपाल मलिक गुस्से में आए और उन्होने कहा कि 2016 की हिंसा के जनक खुद सीएम मनोहरलाल, कैप्टन अभिमन्यु, ओपी धनखङ, सुभाष बराला, सांसद राजकुमार सैनी व मनीष ग्रोवर थे। मलिक ने कहा कि जरूरत पङने पर आरक्षण की मांग कर रहे देश के सभी समुदाय दिल्ली में एक मंच पर भी आ सकते हैं।
उन्होने कहा कि आने वाला समय चुनाव का है। ऐसे में चुनावों को लेकर आने वाले समय में ही रणनीति बनाई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

− 1 = 2