कैथल के शहीद राजेश के परिवार को लेकर सरकार की लापरवाही, एक महीने बाद भी नहीं मिल रही कोई मदद

0

26 सितम्बर 2018
हरियाणा÷【संजय पांचाल】

गांव भागल में एक शहीद की शहादत को नजर अंदाज करने का मामला सामने आया है। गौरतलब है कि 18 अगस्त 2018 को कैथल के खंड गुहला -चीका के गांव भागल का 23 वर्षीय एक नौजवान राजेश पुनिया लद्दाख के पास एक चोटी पर शहीद हो गया था और उसके बाद आर्मी ने उसको शहीद का दर्जा भी दे दिया था।

21 अगस्त को राजकीय मान सम्मान के साथ राजेश पुनिया का संस्कार किया गया और शहीद के संस्कार में सरकार की तरफ से परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार व स्थानीय विधायक कुलवंत बाजीगर भी आए और पूरा जिला प्रशासन भी शहीद के संस्कार में शामिल हुआ। इसके साथ लगभग 20 हजार लोग पूरे हरियाणा से शहीद के संस्कार में शामिल हुए और शहीद को श्रद्धांजलि दी थी।

सरकार ने वादा किया था कि शहीद के परिवार को 50 लाख रुपये और एक सरकारी नौकरी दी जाएगी, परंतु आज इस बात को लगभग 1 महीना बीत गया है, ना तो कोई पैसा दिया गया ना ही कोई नौकरी और शहादत पर भी सरकार द्वारा सवाल उठाए जा रहे हैं।

शहीद राजेश के परिवार ने बताया की घर की स्थिति बहुत खराब है। मां भी अपना मानसिक संतुलन खो बैठी है और सदमे में है। घर का गुजारा रिश्तेदारों की मदद से चल रहा है। घर में कमाने वाला केवल एक ही व्यक्ति था, वह था शहीद राजेश पुनिया, जो कि अब इस दुनिया में नहीं है।

इसलिए घर के हालात बहुत खराब है माता- पिता दोनों बीमार रहते हैं, उनके इलाज के लिए भी पैसा नहीं है और हम 1 महीने से कैथल के लघु सचिवालय में अपनी फरियाद लेकर चक्कर काट रही हैं, परंतु कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
हमारा सरकार से निवेदन है कि जो सरकार ने वादा किया था उसे पूरा करें और परिवार को ₹50,00,000 और एक नौकरी जल्द से जल्द दें। ताकि परिवार अपने आप को संभाल सके और परिवार की स्थिति ठीक हो सके शहीद के भाई रामपाल ने बताया कि मैं कुछ मांगना नहीं चाहता, परंतु मजबूरी है। मेरी मां बिस्तर से उठ नहीं सकती, इलाज पर पैसा खर्च हो रहा ।है थोड़ी सी जमीन है घर का गुजारा चलाना मुश्किल हो गया है और उनके परिवार को एक रोजगार की सख्त जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 5 =