किसानो को 42 करोड़ रूपये का मिलेगा मुआवजा और 370 लोगों को मिलेगी नौकरी

0

खनिज मंत्री के निरंतर प्रयासों से स्वीकृत हुई खैरहा, कंदोहा और धमनीकला के किसानों की मुआवजा राशि

किसानो को 42 करोड़ रूपये का मिलेगा मुआवजा और 370 लोगों को मिलेगी नौकरी।
शहडोल- मध्य प्रदेश शासन के उद्योग खनिज साधन एवं शहडोल जिले के प्रभारी मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल के निरंतर प्रयासों से शहडोल जिले के ग्राम पंचायत खैरहा, कंदोहा और ग्राम पंचायत धमनीकला के लगभग 400 किसानों को उनकी अधिक अधिग्रहित भूमि 540 एकड़ भूमि की मुआवजा राशि स्वीकृत हुई है। प्रभावित किसानों के लगभग 370 परिजनों को एसईसीएल द्वारा नौकरी भी दी जाएगी। शहडोल जिले के प्रभारी मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल द्वारा विकास यात्रा के दौरान शनिवार को ग्राम पंचायत खैरहा और धमनीकला पहुंचकर किसानों को मुआवजा राशि स्वीकृत होने पर शुभकामनाएं दी गई, तथा कोल माइंस प्रबंधन के अधिकारियों से चर्चा कर प्रभारी मंत्री ने प्रभावित कृषकों को तेजी से मुआवजा राशि वितरित करने को कहा है साथ ही प्रभावित किसानों के परिजनों को कोल माइंस में नौकरी देने के लिए शीघ्र कार्यवाही करने पर भी कालरी प्रबंधन के अधिकारियों से चर्चा की। गौरतलब है कि शहडोल जिले के सोहागपुर एवं बुढार विकासखंड के ग्राम खैरहा कंदोहा और धमनीकला के लगभग 400 किसानों की 540 एकड़ भूमि साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड सोहागपुर द्वारा अधिकृत की गई है अधिग्रहित भूमि का मुआवजा वितरण की प्रगति काफी समय से लंबित थी जिले के प्रभारी मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल को इसकी जानकारी होने पर उन्होंने जिला प्रशासन एवं साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड सोहागपुर के अधिकारियों के बीच निरंतर समन्वय स्थापित कर मुआवजा राशि वितरण के प्रकरण को हल करने में सफलता हासिल की है। शनिवार को ग्राम पंचायत खैरहा और धमनीकला पहुंचने पर क्षेत्र के किसानों ने शहडोल जिले के प्रभारी मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल का गर्मजोशी से स्वागत किया और मुआवजा वितरण के प्रकरणों को हल करने पर प्रभारी मंत्री श्री राजेंद्र शुक्ल को धन्यवाद ज्ञापित किया गया।
प्रभारी मंत्री श्री राजेन्द्र शुक्ल ने शहडोल और अनूपपुर जिले में स्वीकृत नई खदानों रामपुर, बेलिया और खांडा, उमरिया जिले में स्वीकृत नवीन कोयला खदान मालाचुआ के भूमि अधिग्रहण और मुआवजा वितरण से संबंधित गतिरोधों को समाप्त करने के लिये कमिष्नर शहडोल संभाग को निर्देष दिये हैं कि वे तीनों जिलों के कलेक्टरों, अध्यक्ष सह प्रबंधक निदेषक एसईसीएल एवं एसईसीएल के महाप्रबंधकों की बैठक लेकर किसानों के भू-अर्जन मुआवजा वितरण और पुनर्वास के लिये समुचित कार्यवाही करना सुनिष्चित करें।

रिपोर्टर-अजय पाल
शहडोल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

− 2 = 1