ऐसे तो न पढ़ेगा इंडिया, न बढ़ेगा इंडिया !

0

9 जुलाई 2018
संजय पांचाल रोहतक(हरियाणा)

केंद्र हो या फिर प्रदेश सरकार हर कोई आज आधुनिक पढ़ाई कराने के दावे करती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तो पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया नारा भी दिया था, लेकिन इसके उलट आज भी हरियाणा के कई ऐसे गांव है, जहां बच्चे चाहकर भी अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पा रहे है। नूंह जिले के टपकन गांव के माध्यमिक स्कूल के सालों से अपग्रेड कराने की मांग कर रहे गांव वासियों और विद्यार्थियों का सब्र अब जवाब दे गया और उन्होंने स्कूल के मेन गेट पर ताला लगाकर वहां धरना शुरू कर दिया।

हरियाणा के नूंह जिले के टपकन गांव के राजकीय माध्यमिक विद्यालय को अपग्रेड न किए जाने से नाराज होकर विद्यार्थियों ने अपने अभिभावकों के साथ मिलकर स्कूल के मेन गेट पर ताला लगा दिया। स्कूल गेट पर ताला लगाने के बाद अभिभावक और बच्चे वहां टेंट लगाकर धरने पर बैठ गए। करीब एक घंटे बाद मौके पर पहुंचे खंड शिक्षा अधिकारी मौके पर पहुंचे, लेकिन विद्यार्थियों ने ताला खोलने से मना कर दिया।

स्कूल के अध्यापक दीपक और गांव सरपंच आस मोहम्मद ने बताया कि टपकन गांव के स्कूल को अपग्रेड करने की मांग कोई नई नहीं है। 2013 से ही गांव के लोग स्कूल को 12वीं तक अपग्रेड करने की मांग कर रहे है। स्कूल में 1300 बच्चे पढ़ाई के लिए आते है, लेकिन 10वीं के बाद वो आगे की पढ़ाई नहीं कर पाते। इतना ही नहीं स्कूल में कई विषयों के अध्यापक भी नहीं है। ग्रामीण रहमत, वाजिद हुसैन, और छात्र मोहिन ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि जल्द ही स्कूल को अपग्रेड नहीं किया गया तो भूख हड़ताल शुरू कर देंगी।

स्कूल की छात्राओं ने बताया कि गांव में 10वीं से आगे का स्कूल न होने के कारण लड़के तो किसी तरह से दूसरी जगह जाकर अपनी पढ़ाई कर लेते है, लेकिन परिवार वाले लड़कियों को किसी भी सूरत में पढ़ने के लिए गांव से बाहर नहीं भेजते। ऐसे में सरकार की बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओं मुहिम कैसे सफल होगी ? इस पर संशय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

29 − 24 =