ईद-उल-जुआ का पर्व 22 को कुर्बानी देने के लिए बकरों की लगी है मंडियां

0

21 अगस्त 2018
गुरुग्राम÷【संजय पांचाल】

गुरुग्राम, भारत देश त्यौहारों का देश माना जाता है। हिंदू, मुस्लिम, सिक्ख, इसाई व अन्य समुदायों के त्यौहारों को भी सभी समुदाय सामूहिक रुप से मनाते आ रहे हैं। इसी क्रम में आगामी 22 अगस्त को मुस्लिम समुदाय के लोग बकरीद यानि कि ईद-उल-जुहा का पर्व धूमधाम से मनाएंगे। इस पर्व को कुर्बानी का पर्व कहा जाता है। कुर्बानी देने के लिए शहर के सोहना चौक स्थित जामा मस्जिद के पास बकरों की मंडियां लगी हुई हैं। इन मंडियों में विभिन्न प्रजातियों के बकरे बिक्री के लिए मेवात व राजस्थान से लाए गए हैं। बकरों का मोल-भाव करने के लिए समुदाय के लोग जामा मस्जिद क्षेत्र पहुंच रहे हैं। बकरों की सेहत के अनुसार ही उनकी कीमत आंकी जा रही है।

एक लाख तक के बकरे आए हैं मंडियों में

10 हजार से लेकर एक लाख तक का बकरे मंडी में बिक्री के लिए लाए गए  हैं। बकरों की प्रजातियों में मेवाती, जाफराबादी, जमुनापारी मुख्य रुप से पंसद किए जा रहे हैं। गत वर्षों की अपेक्षा इस बार बकरों की कीमत में भारी वृद्धि हुई है। बकरों की इस मंडी में 80 किलो ग्राम से अधिक का बकरा भी मौजूद है, लेकिन उसकी कीमत एक लाख से अधिक बताई जा रही है।

गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष बकरों की कीमत में आया है उछाल

बकरे बेचने आए रहीम, उसमान, सलाउद्दीन, जाकिर आदि का कहना है कि बकरों को जितनी अधिक खुराक खिलाएंगे, उतना ही बकरा सेहतमंद होगा। इसके लिए बकरों को अच्छी खुराक खिलानी पड़ती है। उनकी खुराक भी महंगी हो गई है। इसीलिए बकरों की कीमत में भी गत वर्ष की अपेक्षा अच्छा उछाल आया है। बकरों को पडौसी प्रदेशों से भी लाना पड़ता है। उनके लाने-ले जाने में भी खर्च आता है।

सज गई हैं मेवा व सेवईयों की दुकानें

जामा मस्जिद के आस-पास मेवे, सेवईयां आदि की दुकानें भी सजी हुई हैं। समुदाय के लोग इन दुकानों से इद-उल-जुहा के लिए खरीददारी कर रहे हैं। लोग इन खाद्य सामग्रियों के साथ-साथ खुशबूदार इत्र, कपड़े, जूते आदि खरीदने में भी जुटे हुए हैं।

क्या कहना है इमाम का

जामा मस्जिद के इमाम जान मोहम्मद का कहना है कि शरियत के मुताबिक तंदरुस्त जानवर की ही कुर्बानी दी जानी चाहिए। कुर्बानी में बकरों की प्रजातियों व नामों से कोई लेना-देना नहीं होता। उन्होंने बताया कि ईद-उल-जुहा पर अता की जाने वाली नमाज का समय भी सुविधा के अनुसार मुकर्रर कर दिया गया है। समुदाय के लोग नमाज अता करने के लिए सोहना चौक स्थित जामा मस्जिद, ईदगाह, सैक्टर 57 स्थित अंजुमन मस्जिद, चौमा, न्यू पालम विहार, कार्टरपुरी, उद्योग विहार, सुशांत लोक, साऊथ सिटी आदि में जाएंगे।

जिला प्रशासन भी है चौकन्ना

ईद-उल-जुहा पर्व पर जिला प्रशासन ने भी सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद करने की तैयारी कर ली है। नमाज अता करने के स्थलों के आस-पास पुलिसकर्मी भी तैनात किए जाएंगे, ताकि नमाजियों को किसी प्रकार की परेशानियों का सामना न करना पड़े और उच्चाधिकारी भी क्षेत्रों का दौरा कर व्यवस्था का जायजा लेंगे, ताकि किसी प्रकार की कोई अप्रिय घटना घटित न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

− 1 = 1