आचार्य नरेंद्र देव टीचर ट्रेनिंग कॉलेज में गणतन्त्र दिवस कार्यक्रम का आयोजन

0

आचार्य नरेंद्र देव टीचर ट्रेनिंग कॉलेज में गणतन्त्र दिवस कार्यक्रम का आयोजन।

संवाददाता चंद्रशेखर प्रजापति

सीतापुर । हम शिक्षकों की भूमिका समाज में सबसे भिन्न होती है, हम शहीद नहीं होते, हम खून नहीं बहाते , लेकिन हम पसीना बहाते हैं, हम किसान नहीं होंगे हम अन्न नहीं उगातें , लेकिन हम अन्न के महत्व को समझाते हैं , हम नेता नहीं होंगे, भाषण नहीं देंगे, लेकिन हमारे कार्य समाज को दिशा देंगे और अगर यही काबिलियत है हममें तो हम शिक्षक हैं यह बात प्राचार्य डॉक्टर प्रनिता सिंह 70वे गणतंत्र दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम बीएड छात्राध्यापकों को संबोधित करते हुए आचार्य नरेंद्र देव टीचर ट्रेनिंग कॉलेज सीतापुर में कहीं आगेे बताया
गणतंत्र’ का अर्थ है- देश में रहने वाले लोगों की सर्वोच्च शक्ति और सही दिशा में देश के नेतृत्व के लिए राजनीतिक नेता के रूप में अपने प्रतिनिधि को चुनने के लिए केवल जनता के पास अधिकार है।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉक्टर दीपा अवस्थी ने कहा भारत में ‘पूर्ण स्वराज’ के लिए हमारे महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने बहुत संघर्ष किया। उन्होंने अपने प्राणों की आहुति दी जिससे कि हमारी आने वाली पीढ़ी को कोई संघर्ष न करना पड़े और हम देश को आगे लेकर जा सकें।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कैलाश चंद्र मिश्र अध्यक्ष प्रबंधन समिति आचार्य नरेंद्र देव टीचर ट्रेनिंग कॉलेज सीतापुर ने कार्यक्रम का संबोधन करते हुए कहा छात्र की मूल्यांकन में निष्पक्षता की सराहना करते हुए कहा सूर्य देव की की तरह शिक्षक को सभी छात्रों का समान रूप से मूल्यांकन करना चाहिए जिसमें प्रतिभा के अनुसार ही उन्हें पुरस्कार सम्मान दिया जाना महत्वपूर्ण होता है। मीडिया प्रभारी डॉक्टर इमरान ने कहा हमारे देश के महान नेता और स्वतंत्रता सेनानी महात्मा गांधी, भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार वल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री आदि हैं। भारत को एक आजाद देश बनाने के लिए इन लोगों ने अंग्रेजों के खिलाफ लगातार लड़ाई लड़ी। अपने देश के लिए हम इनके समर्पण को कभी नहीं भूल सकते हैं। हमें ऐसे महान अवसरों पर इन्हें याद करते हुए सलामी देनी चाहिए। केवल इन लोगों की वजह से ये मुमकिन हुआ कि हम अपने दिमाग से सोच सकते हैं और बिना किसी दबाव के अपने राष्ट्र में मुक्त होकर रह सकते हैं। डॉक्टर सुनील कुमार ने कहा पूर्व में, ब्रिटिश शासन के तहत भारत एक गुलाम देश था जिसे हमारे हजारों स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों के द्वारा बहुत वर्षों के संर्घषों के बाद आजादी प्राप्त हुई। इसलिये, हमें आसानी से अपने सभी बहुमूल्य बलिदानों को नहीं जाने देना चाहिये और फिर से इसे भ्रष्टाचार, अशिक्षा, असमानता और दूसरे सामाजिक भेदभाव का गुलाम नहीं बनने देना है। आज का दिन सबसे बेहतर दिन है जब हमें अपने देश के वास्तविक अर्थ, स्थिति, प्रतिष्ठा और सबसे जरुरी मानवता की संस्कृति को संरक्षित करने के लिये प्रतिज्ञा करनी चाहिये गणतंत्र दिवस के अवसर पर जादूगर कौशलेंद्र कुमार अद्भुत तरीके का जादू दिखाया जिसको देखकर छात्रा अध्यापकों ने दांतो तले उंगली दबा ली। मंच संचालन छात्राध्यापक लवलीन दीक्षित ने किया मुख्य अतिथि समूह गीत बंदना विश्वकर्मा, आकांक्षा श्रीवास्तव ,साधना वर्मा ,तनिष्का, प्रियंका सिंह, शालिनी प्रतिभा, शिखा ने प्रस्तुत किया
इस मौके पर असिस्टेंट प्रोफेसर सुनील कुमार नितिन पाण्डेय, मोहम्मद इमरान डॉक्टर दीपा अवस्थी, राज कीर्ति रस्तोगी ,सुरभि अवस्थी, छात्राध्यापक अमित कुमार प्रजापति, वंदना विश्वकर्मा ,आरती गुप्ता, सतीश यादव ,सुजीत कुमार , नरेंद्र प्रताप दिक्षित ,शिवम मिश्रा, बृजेश संदीप कुमार ,रवि शंकर पटेल, आलोक सिंह, आकांक्षा श्रीवास्तव, राजमाला,अंकिता, अभय गौरव, नेहा तिवारी, कामिनी दीक्षित ,प्रियंका सिंह, रंजीत सिंह,आयुष कुमार,ब्रिजेश चौबे,धीरेन्द्र राठौर ,अमरेन्द्र कुमार,रंजीत सिंह,कौशलेन्द्र कुमार,पुष्पेंद्र कुमार,अम्बरीष शुक्ला,पवनकुमार, ,गौरव ,राजवीर, आलोक सिंह, हर्ष शुक्ला ,विजय कुमार ,रामानन्द यादव,राहुल चौहान,रणवीर सिंह,संदीप मिश्रा,दिनेश शर्मा,आकांक्षा श्रीवास्तव,शिखा सिंह,प्रतिभा वर्मा , शालिनी,पारुल,साधना, आदि लोग उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

+ 11 = 20